यदि आप भी करते हैं तेज़ धूप में काम तो ध्यान दीजिए इन बातों को

1300
outdoor-work-in-summer
image credits: Live Well 360

तपते हुए सूरज में बाहर निकलना ही खतरनाक है, धूप में काम करना, खेलना या वर्जिश करना तो हममें से ज़्यादातर लोग सोच भी नही सकते। पर अगर आप तेज़ गर्मी में पसीना बहाने वालों में से हैं, तो कुछ सावधानियां बरतनी बेहद ज़रूरी है।

 

गर्मी से जुडी बीमारियों के विशेषज्ञ बता रहे हैं कुछ अहम जानकारियां जो आपको पता होनी चाहिए-

 

  • गर्मी से होने वाली बीमारियों को जानें-
    धूप के असर से बचने के लिए तेज़ गर्मी से होने वाली बीमारी के लक्षण और अपने शरीर की ज़रुरतों को जानना ज़रूरी है। सिरदर्द को भूलकर काम करना या कमज़ोरी का कारण अधूरी नींद को बताना बार-बार होने लगे तो सतर्क हो जाएं।सिरदर्द, चक्कर, उल्टियां, आलस आदि सभी लक्षण गर्मी से होने वाली गम्भीर थकान की तरफ इशारा करते हैं। आँखों के सामने अँधेरा छा जाना या हालात समझने में मुश्किल होना जैसे संकेत हीटस्ट्रोक के भी हो सकते हैं और इस हाल में आपको जल्द उपचार लेने की ज़रूरत है।अगर गर्मी में थकान महसूस कर रहे हैं तो अपने काम या कसरत को तुरंत छोड़ें और किसी छाँव या A.C. कमरे में जाकर आराम करें। अतिरिक्त कपड़ों को हटा दें, पीठ के पल लेटकर पैरों को थोड़ा ऊँचा रखें, पानी पियें और दुबारा बाहर निकलने से पहले एक दिन रुकें।

इन 13 बीमारियों से बच सकते हैं अगर पीते हैं तांबे के बरतन में पानी

  • अपने दोस्त के साथ बाहर निकलें
    चाहे धूप में काम करना हो या कसरत, एक दोस्त के साथ करें। प्रेरणा देने या मन लगाए रखने के अलावा यह सुरक्षा की दृष्टि से भी ज़रूरी है। आपका दोस्त आपकी ज़िद के विरुद्ध आपको अत्यधिक काम करने से रोक सकता है और बिगड़ते हालातों में आपकी मदद कर सकता है।

 

  • भरपूर पानी पियें-
    गर्मियों में भरपूर पानी पीना ही सेहतमंद बने रहने की चाबी है। धूप में काम कर रहें हों तो यह और भी ज़रूरी हो जाता है। पानी पीने से शरीर का तापमान कम होता है और तरल की कमी पूरी होती है।विशेषज्ञ बताते हैं की तीन प्रमुख कारक तय करते हैं की आपको कितना पानी पीना चाहिए, काम की तीव्रता, मौसम और आपका वज़न। इनमे से कुछ भी ज़्यादा होने पर आपको पानी का सेवन बढा देना चाहिए। पर अगर शरीर में पानी की कमी हो गयी है तो एक साथ पानी पीने से अच्छा होगा दिन भर में थोड़ा-थोड़ा कर पियें।और कभी भी प्यास लगने का इंतज़ार न करें, यह इशारा है की आपके शरीर में पानी की कमी हो गई है।

किस तरह मटके का पानी फ्रिज के पानी से है बेहतर

  • गर्मी में काम या कसरत का सही समय चुनें-
    गर्म महीनों में सुबह तड़के या देर शाम में वर्जिश या काम करना श्रेष्ठ है। आप आसानी से इस समय का अपने ऑफिस के साथ तालमेल बैठा कर सेहतवर्धक गतिविधियों के लिए उपयोग कर सकते हैं। सुबह का समय चूक जाए तो भी शाम के भरपूर उजाले में आप वर्जिश या छुटे काम पुरे कर सकते हैं। पर अगर किसी मैराथन में हिस्सा लेने वाले हैं, आपके मनपसन्द खेल का टूर्नामेंट है या घर में आयोजित कार्यक्रम है तो दोपहर में बचना मुश्किल हो जाता है। विशेषज्ञ कहते हैं की इन परिस्थितियों में काम करने के लिए पहले से तैयारी ज़रूरी है; रोज़ थोड़ा समय निकालकर दोपहर में हल्की कसरत करें और तीव्रता बढ़ाएं। इस तरह आपका शरीर तेज़ धुप में काम करने से प्रभावित नही होगा।

 

  • कसरत या काम के लिए सही कपड़े चुनें-
    ऐसे कपड़े पहनें जो पसीने में भी ठंडक और सूखापन दें। कॉटन के कपड़े इसके लिए आदर्श हैं पर आज बाजार में कई और विकल्प उपलब्ध है। विशेषज्ञ सुझाते हैं की आपके कपड़े हल्के और ढीले होने के साथ UV किरणों से बचाव करने वाले भी होने चाहिए।

चावल के पानी (मांढ़) के ऐसे फायदे जिनसे थे आप अभी तक अनजान

  • पानी और इलेक्ट्रोलाइट के स्रोत फल खाएं-
    वर्जिश के पहले वसा और प्रोटीन युक्त आहार लेने से बचें क्योंकि इन्हें पचाने में समय लगता है। जब आप काम करते हैं और शरीर में ताप बढ़ता है, तो पाचन मुश्किल हो जाता है जिससे उल्टियां तक आ सकती हैं।इनकी बजाय पानी से भरपूर फल खाएं। सेब, तरबूज, ककड़ी, रसभरी, अवोकेडो इत्यादि फल आपको ठंडा रखेंगे और पानी की कमी को दूर करेंगे।